Tuesday, July 11, 2017

Gorkhaland is an age old anti-Indian China-Nepal (Communist-Maoist) plan and it’s a threat to India’s security as it’s a first step towards Greater Nepal including Sikkim. Government of India & specially ruling party BJP should consider national interest first than 1-2 odd Loksabha seats for NDA.

Opposing Gorkhaland Movement is not equating it to opposing Hindi/Nepali/Bengali. 

It’s sad that BJP & their trollers (Paid??) are abusing Bengal & Bengalis (also TMC and Mamata Banerjee) day night in the name of Gorkhaland & Indianism. 

Gorkhaland is an age old China & Nepal (communist-Maoists) joint plan and as per their map its start from Gorakhapur & extends up-to Sikkim & Darjeeling!  50% Nepalese migrants & 30% Tibetans.

 
  China lover Nepal's claims on Indian Territory aka "Greater Nepal" include both Sikkim and the so-called Gorkhaland region. 
 
Grand plan-map of Greater Nepal is including Gorkhaland upto Gorakhpur & Sikkim! Darjeeling has Nepalese migrants & Tibetan refugees.

I was telling it since long, we shouldn't fulfil dream of Nepali Maoists & China.
They want #Darjeeling + #Sikkim + #Nepal = #GreaterNepal

Actually China wants to severe India's entire North-eastern region from the Indian mainland by cutting off the Siliguri Corridor / the Chicken's Neck.

And this Gurkhaland / Darjeeling region is situated right within this extremely sensitive Siliguri Corridor or the Chicken's Neck area.

China's Nepali allies are helping their Chinese paymasters in every way possible. India should treat this matter with extreme caution.

Very surprising that Gorkha & Sanghi Parivar finds it very suitable to label Bengalis as a timid community & all are from Bangladesh. 


(Those who doubt Lord Curzon is Nepali or not may see my next pics here)
 
It is done with an agenda with a vested interest, and is it not natural for Bengalis to protest against this agenda?


It must be remembered that during the Freedom Struggle Bengalis & Punjabis had been the major participants/contributors in the historic freedom struggle of India.

Bengal has given the Real Indian Liberator Netaji Subhas Chandra Bose, a Bengali (Tagore) has given the Nation its National Anthem and who can forget another Bengali Bankimchandra gave India Vandemataram.

Even this BJP (Then Janasangha) established by a Bengali.
Also Bengali Sri Ramakrishna Paramhansha & Swami Vivekananda have shown the way to Hindus/Indians.

In the Indian Army there are many Bengali Soldiers protecting our country, some in higher designations, which may also increase if we count it. 
We have given the Indian Army two Army Chiefs & two Air Chiefs. 

The Gorkhas are giving example of Gorkha Soldiers, true they are... But remember they are Rented Soldiers in Indian & British Army. 
Indian Army has also pension office for retired Gorkhas in Nepal.

Jung Samsher Bahadur Rana was also helped British to combact the "Sipahi Bidroho/ Sipoy Mutiny" in 1857, by sending 2 lc Gorkha soldiers.

Jaliwanawala Bag massacre was done by the Gorkhas on the behest of the Gen. Dyer. 

Gorkhas were the most brutal on Indian Freedom fighters.
The Gorkhas still support China if needed (See the photos) & they are also part of the British Army.


The truth is, China is silently supporting this Darjeeling Sikkim Gorkhas/Nepalese to be united. Once done then separate country , then Greater Nepal. 

And in the long run this Greater Nepal will be transformed into North Korea. This will ensure that China has its first line of defense in Indian front.
Remember by enlarge “land” or “sthan” cannot be a state name but a country name. 

So it’s a warning bell to those who forgets or behaves oblivion to the fact given above and abuses their mother land and Bengal & Trinamool plus Mamata Banerjee, they are actually fulfilling Chinese & Nepali Maoist agenda against India by degrading Bengalis, Bengal & India.

Hope my readers will understand the threats and as proves I’m herewith attaching some pictures/screenshots which shows how much Anti-Indian & Pro-Chinese these Gorkhaland supporters are.  

গোর্খাল্যান্ড একটি পুরাতন ভারতবিরোধী চীন নেপাল (কমিউনিস্ট-মাওবাদী) যৌথ পরিকল্পনা এবং এটি ভারতের নিরাপত্তার জন্য বিপদ। কারণ এটি সিকিমসহ বৃহত্তর নেপালের দিকে একটি প্রথম পদক্ষেপ।
ভারত সরকার এবং বিশেষভাবে ক্ষমতাসীন দল বিজেপি জাতীয় স্বার্থ কে অগ্রাধিকার দিতে হবে একটি বা দুটি লোকসভা আসন এর চেয়ে ।

গোর্খাল্যান্ড আন্দোলনকে বিরোধিতা করা মানে হিন্দী / নেপালি / বাংলা বিরোধিতা করা নয়। এটা দুঃখজনক যে বিজেপি এবং তাদের ট্রলার (পেড ??) গোর্খাল্যান্ড ও ভারতীয়তাবাদের নামে বাংলার বাঙালিদের (সঙ্গে তৃণমূল ও মমতা ব্যানার্জীকে) দিবারাত্র অপমান করছে।
গোর্খাল্যান্ড হচ্ছে একটি পুরানো চীননেপাল (কমিউনিস্ট-মাওবাদী)দের পরিকল্পনা যা মানচিত্রে  - গোরখপুর হতে দার্জিলিং এবং সিকিম পর্যন্ত বিস্তৃত!


চীনের দালাল নেপালের ভারতীয় নেপালি অঞ্চলের লোকেরা "বৃহত্তর নেপাল  চায় -এ
দাবীর মধ্যে সিকিম এবং তথাকথিত গোর্খাল্যান্ড অঞ্চল অন্তর্ভুক্ত।দার্জিলিং এ মূলত 50% নেপালী অধিবাসী এবং 30% তিব্বতী অধিবাসী।




আমি এটা দীর্ঘদিন ধরে বলছি, আমাদের নেপালি মাওবাদ ও চীনের স্বপ্ন পূরণ করতে দেওয়া ঠিক হবে না।
তারা চায় # দার্জিলিং + # সিকিম + # নেপাল = # বৃহত্তর নেপাল

প্রকৃতপক্ষে  শিলিগুড়ি করিডোর কাটিয়ে চীনের ভারতীয় প্রধান ভূখণ্ড থেকে ভারতের উত্তর-পূর্ব অঞ্চলে প্রবেশ করাই চীনের মূল উদ্দেশ্য।

এবং এই গোর্খাল্যান্ড/দার্জিলিং অত্যন্ত সংবেদনশীল শিলিগুড়ি করিডোর বা চিকেন এর নেক এলাকায় ডানদিকে অবস্থিত
চীন এর নেপালি সহযোগীগণ তাদের সম্ভাব্য সব উপায়ে তাদের চীনা paymasters সাহায্য করা হয়। ভারতের এই বিষয়ে অত্যন্ত সতর্কতার  সঙ্গে চলা উচিত।

খুব আশ্চর্যজনক যে গোর্খা এবং সংঘ পরিবার (বিজেপি) চায় দেশদ্রোহী সম্প্রদায় হিসেবে বাঙালিদের লেবেল দেওয়া ও তারা প্রচার করে আমরা বাঙ্গালিরা সবাই বাংলাদেশ থেকে এসেছি।
এটি একটি বিশেষ উদ্দেশ্যপূর্ণ এজেন্ডা নিয়ে করা হচ্ছে এবং সকল বাঙ্গালীর এটি প্রতিবাদ করা উচিত।


এটা মনে রাখা উচিত যে স্বাধীনতা সংগ্রামের সময় বাঙালি ও পাঞ্জাবিরাই ভারতের ঐতিহাসিক স্বাধীনতা সংগ্রামের প্রধান অংশীদার ছিল।
ভারতকে সত্যিকারের স্বাধীনতা বাঙালি নেতাজি সুভাষ চন্দ্র বসু  দিয়েছেন, এক বাঙালি (রবীন্দ্রনাথ) দেশকে তার জাতীয় সংগীত দিয়েছেন এবং অন্য বাঙালি বঙ্কিমচন্দ্র ভারতকে বন্দেমাতারাম দিয়েছেন তা কিকরে ভারতবাসী ভুলে যেতে পারেন?

এমনকি এই বিজেপি (তখন জনসংঘ) এক বাঙালি (শ্যামাপ্রসাদ মুখোপাধ্যায়) কর্তৃক প্রতিষ্ঠিত শ্রী রামকৃষ্ণ পরমহংস ও স্বামী বিবেকানন্দ  হিন্দু / ভারতীয়দের পথ দেখিয়েছেন।

ভারতীয় সেনাবাহিনীতে অনেক বাঙালি সৈন্যরা আমাদের দেশকে সুরক্ষিত রাখে, অনেকেই  সেনার উচ্চতর পদে আসীন রয়েছেন। আমরা ভারতীয় সেনাবাহিনীকে দুটি সেনাপ্রধান ও দুটি বায়ুসেনাপ্রধান প্রদান করেছি। 

গোর্খারা গোর্খা সৈনিকের উদাহরণ তুলে ধরেছে কিন্তু তাদের মনে রাখা উচিত তারা ভারতীয় ও ব্রিটিশ সেনাবাহিনীর ভাড়াটে সৈন্য। ভারতীয় সেনাবাহিনী নেপালের অবসরপ্রাপ্ত গোর্খার জন্য নেপালে পেনশন অফিস ও আছে।

১৮৫৭ সালে জং শামসের বাহাদুর রানা সিপাই বিদ্রোহ দমন করার জন্য দু লাখ গোর্খা সৈন্য পাঠিয়ে ব্রিটিশদের সাহায্য করেছিলেন।

জালিয়ানয়ালাবাগ এ জেনারেল ডাযার এর হুকুম তামিল করতে মুলত গোর্খারাই গুলি চালিয়েছিল। ভারতীয় স্বাধীনতা  আন্দোলনকারীদের প্রতি সবথেকে বেশী নির্মমতা এই গোর্খারাই করেছিল। গোর্খারা এখনও চীনকেই সমর্থন করে, কিছু ছবি দেয়া হল । গোর্খারা ব্রিটিশ আর্মীর অংশ।

এমনকি চীনের উস্কানীতে গোর্খারা দার্জিলিং ও সিকিম এক করতে চাইছে। তারপর আলাদা দেশ যা হবে নেপালের সঙ্গে মিশে গ্রেটার নেপাল। এটি হবে চীনের প্রতিরক্ষার প্রথম লাইন।

"জমি" (Land) বা "স্থান" (Sthan) সাধারণত একটি রাজ্যের (State) নাম হতে পারে না এটি দেশের নাম।
সুতরাং যারা এই সকল সত্যকে ভুলে গিয়ে তাদের মাতৃভূমি কে শত্রুর হাতে তুলে দিচ্ছেন তৃণমূল মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়কে গালাগাল দিয়ে সুখ পাচ্ছেন তারা আসলে ভারতের বিরুদ্ধে চীনা ও নেপালি মাওবাদী কর্মসূচি পরিপূর্ণ করছে।

আশা করি আমার পাঠকরা সত্য বুঝতে পারবে এবং আমি কিছু ছবি / স্ক্রিনশটগুলি সংযুক্ত করছি যা দেখায় যে, গোর্খাল্যান্ড সমর্থকরা কতগুলি এন্টি ইন্ডিয়ান ও প্রো-চীনা। 

বাংলা অনুবাদের কিছু ভুল হলে ক্ষমা করবেন।


Please see other posts in this blog page by clicking "Home" or from "My Favorite Posts" / "Popular Posts" / "Archives" sections, and if any remarks please feel free to post. 
Thanks & Vande Mataram!! Saroop Chattopadhyay.

Saturday, June 24, 2017

गुजरात के एक ब्यापारी के नजर से जीसटी की प्रायोगिक मुस्किले --- दीपक गणात्रा अहमदाबाद Practical problem for implementing proposed GST by BJP government. Written by an Ahmadabad based businessman Mr. Deepak Ganatra.


*GST सुन सुन कर ऐसे लग रहा है मानो व्यापारी एक स्वतंत्र व्यक्ति न हो कर किसी तानाशाही या कम्युनिस्ट देश की किसी फैक्ट्री का मजदूर है।*


*यहां पर पैसा व्यापारी का, दुकान व्यापारी की, सिरदर्दी व्यापारी की, नुकसान व्यापारी का, चोरी होने या घाटा होने पर नुकसान व्यापारी का।* 

*इन सब के बावजूद*
... *कानून सरकार का* ---


*वो भी ऐसा की अच्छा अच्छा CA भी गश खा जाए, आम व्यापारी की तो बात ही क्या है। कानून का मकड़जाल इतना कि मानो व्यापारी व्यापार न करके किसी इंजीनियरिंग कॉलेज में इंजीनियरिंग की 5 साल की डिग्री की पढ़ाई कर रहा हो।*


*ऊपर से सरकार का चाबुक और जेल का दरवाजा अलग तैयार है।*


*नेता बिरादरी में आपस में भले ही कुत्ते, बिल्ली का बैर हो पर जब बात अपने भले (पैसा, वेतन, भत्ते बढ़ाने की) आती है तो सभी एक हो जाते हैं।*


*इसके अलावा यदि जनता को निचोड़ने का कोई कानून बनाना हो तो भी इस हमाम में सभी एक नजर आते हैं।*


*मोदी कहता था सारे टैक्सों का झंझट खत्म करके एक सिंपल ट्रांजेक्शन टैक्स 1 या 2%का रखूंगा ---- वह भी चुप है।*


*सैक्यूलर और राष्ट्रवादी पार्टियां चुप हैं। अरे सर, इतना झंझट व्यापारी के गले में क्यों डाल रहे हैं। आम व्यापारी तो वैसे ही मुंडी हिलाएगा जैसे उसका CA या वकील कहेगा --- हर जगह अंगूठा लगा देगा क्योंकि इतनी तकनीकी जानकारी रखने की समझ या समय आम व्यापारी भाई के पास कहां है।*


*सीधा सा एक टैक्स लगाइए 1 या 2%। सभी व्यापारी अपनी सेल पर 1 या 2% टैक्स लगाएं और जमा कराएं -- झंझट खत्म।*


*5 - 6 जगह से माल निकल कर ही अंत में पांचवीं या छठी जगह पर रिटेल में काउंटर पर बिकता है तो 1 या 2% के हिसाब से 5-6% या 10-12% टैक्स तो सरकार को मिल ही जाएगा।* 


*लेकिन यहाँ GST (लगभग 28%)की भारी गठरी का बोझ या तो ग्राहक उठाए या व्यापारी अपने पल्ले से दे।* 


*1-2% टैक्स सिस्टम से इस टैक्स की गठरी का बोझ (जितनी जगह माल बिकेगा) उतनी जगह लगने से हर बंदे पर थोड़ा थोड़ा बोझ पड़ेगा। न व्यापारी परेशान होगा, न ग्राहक दुखी होगा और न चोरी होगी।*


*आदरणीय प्रधानमंत्रीजी,*

*भारत-सरकार,* 

*कुछ आपकी पार्टी के अन्नय-भक्त भी ऎसा सोचने लगे हैं।* 

 *क्या आपके पास इसका कोई समुचित निदान है?*


व्यापारी मित्रों 


( 1 ) चुनाव के पहले tax terror  को समाप्त करने का वादा करने वाले मोदीजी ने अब उल्टा tax terror को कई गुना बढ़ा दिया है l


( 2 )  Income tax raid ,

search , seizure , scrutiny cases , reassessment , notices आदि अपनी चरम सीमा पर है l 


( 3 ) पूरे देश मे भय का माहौल बना दिया है l मोदीजी खुद के गुणगाण मे , विदेश भ्रमण मे और प्रवचनों मे लिप्त है l जेटली रोज़ व्यापारियों को जैल मे डालने और परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे है l 


( 4 ) आज तक किसी भी सरकार ने इस तरह की हरकत नही की l जब विदेशो से काला  धन लाने के नाम पर फूटी कौड़ी भी  नही आई तो जेटली जी  अपना चेहरा छिपाने के लिये हम व्यापारियों के पीछे पड़ गये है l 


( 5 ) यह दिखाया जा रहा है कि व्यापारी समाज भ्रस्ट है l लाखों लाखों करोड़ खा जाने वाले लोग , चुनाव मे बेशुमार काला धन खर्च करने वाले लोग , ईमानदारी का पाठ पढ़ा रहे है l 


( 6 ) हम कर दाताऔ को ही कर चोर साबित करने मे लगे है , आतंक और मंदी का माहौल है,

भ्रष्ट अफसरों को मौज हो गई है l  निक्कमे , कामचोर , निर्ल्लज ,

भ्रष्ट , घूस खोर अधिकारीयों की पूरी फौज सक्रिय हो गई है l 

घूसखोरी अपनी पराकाष्ठा पर है l कोई रोकटोक नही है , officers को  मनमानी करने की छूट है l 


( 7 ) हम खुद capital लाते है, दिन रात मेहनत करके, खून पसीना बहाकर, चौबीसों घंटों चिंतित रहकर, अपनी सुख सुविधा  अपने health का ख़याल छोड़ कर काम मे लगे रहते है l व्यापार और केवल व्यापार l घर , परिवार , समाज, शिक्षा, स्वास्थ्य का सोच नही पाते, केवल काम की धुन l व्यापार के सिवा  कूछ भी नही l हमारे working hours समाप्त ही नही होते बस लगे ही रहते है l पूरी ताकत से और ताकत से भी ज्यादा कर लेते है l 


( 8 ) और इस आपाधापी मे मालूम ही नही होता कि कब कौन सी बीमारी लग गई , और लगता है कि शरीर का भी सोचना चाहिये था l कितने समाजिक काम रह गये , घर परिवार का नही सोचा , केवल व्यापार और काम  का ही सोचा l जी तोड़ मेहनत करके चार पैसे जोड़ लिये पर काफी कूछ छूट जाता है l


( 9 ) पर एक संतोष रहता है कि हम कभी थके नही , काम करते गये , खुद काम मे लगे और बहुतों को काम दिया l कितने ही परिवारों का पालन पोषण हुआ l 


( 10 ) किस तरह अपनी मेहनत से पूराने काम को या किसी नये business को  , तिल तिल कर  आगे बढ़ाया, असफलता का मुकाबला किया , कितने risk लिये , कितनी कठिन स्थिति से गुजरे , समय समय पर लिये  सटीक निर्णय आदि का ख़याल कितना संतोष देता है l पर कहीं से भी या किसी भी तरह कोई भी मंत्री हमारी देश हित मे भागीदारी का उल्लेख नही करता  l 


( 11 )  लगता है इस देश मे व्यापार करना जैसे कोई अपराध या गुनाह है l इतने कानून बना दिये है , इतने license बना दिये है , इतने तरह की formalities है  कि इनका ठीक ठीक maintenance सम्भव ही नही है l इनमें ही ज्यादा  समय , और शक्ति  लग जाती है , कारोबार के लिये कम समय रह जाता है l 


( 12 ) और यही से सरकारी अफसरों की मनमानी शुरू होती है l यहीं से घूसखोरी और भ्रष्टाचार का जन्म होता है l यह तो कानून बनाने वाले भी जानते है कि इतना सम्भव ही नही है l पर उनको इससे क्या ?

घूसखोरी और भ्रष्टचार को बढ़ावा देना ही जिनका मकसद है वे कभी भी सुधार नही चाहते l 

जब मन किया notice भेज दिया , जब मन किया detalis माँगली , जब भी दिल किया पूछताछ के लिये चले आये l हमको तो आतंकवादियों से भी ज्यादा जिल्लत और अपमान सहना होता है l


( 13 ) और इससे क्या फायदा होता है , किसका भला होता है , क्या मकसद पूरा होता है , देश का समाज का कुछ भला होता है क्या ?  ये भ्रष्ट officers  लोग क्या  काम कर रहे है l ये देश को दीमक की तरह चाट रहे है , खोखला कर रहे है l 


( 14 ) इस कारण कारोबारी समाज का शिक्षित नवजवान , और वर्तमान पीढी business मे रुचि नही ले रही है l दूसरों को काम दे सकने की छमता रखने वाले खुद काम माँग रहे है l आरामतलब जिंदगी की तमन्ना पनप रही है l बहूत ही भयावह स्थिति है l ये देश हित मे नही है l जिस समाज ने करोड़ों करोड़ों हाथों को काम दिया है उसका उदासीन होना खतरनाक है l 


( 15 ) कितनी भी विदेशी पूँजी आजाये , कितने भी नये रोजगार पैदा हो जाये किंतु इसकी भरपाई सम्भव नही है l बिना मतलब के कानूनों को तुरंत समाप्त किया जाना चाहिये l single point taxation ही इसका उपाय है l 


( 16 ) हम व्यापारी तो हाथ जोड़ कर tax देना चाहते है l पर इतने तरह के tax , इतने तरह के झंझट नही चाहते l जितना जरूरी हो एक साथ , एक ही जगह tax लगा देना चाहिये l हम खुशी खुशी देंगे l किंतु इन भ्रष्ट officers, inspectors, notices, licences, renewals, records maintainance आदि से मुक्ति चाहते है l 


( 17 ) हम चाहते है इन एक नम्बर दो नम्बर के बही खातों और कच्चे पक्के बही खातों की समाप्ति हो l ये सब भ्रष्ट कानूनों और भ्रष्ट सरकारी अफसरों की देन है l हमको तो इस भ्रष्ट व्यवस्था मे लिप्त किया गया है , हमारी चाहत नही है बल्कि मजबूरी है l हम तो परेशान है , त्रस्त है और इसकी समाप्ति चाहते है l 

( 18 ) हम middle class के छोटे बड़े कारोबारी शांति प्रिय लोग है l हमको अपने दो हाथों , अपनी मेहनत  और कार्य  कुशलता पर भरोसा है l हम जंगल मे मंगल कर सकते है l हम विदेशी capital या किसी reservation के मोहताज नही है l हम दंगा फ़साद , आगजनी , आंदोलन , हिंसा वाले लोग नही है l हम तो हाथ जोड़ कर माननीय प्रधान मंत्री मोदीजी से विनती करते है कि यदि हमारी मांगो मे ज़रा भी सचाई हो और यदि उनको लगे कि ये समय माँग है और सबसे बढ़कर यदि ये देश हित मे है तो ज़रूर से कृपया कानूनों की जटिलताओं से व्यापार को मुक्त करिये l हम व्यापारी समाज और ये देश हमेशा आपके ऋणी रहेंगे l 


(  "व्यापारी मित्रों से निवेदन है , यदि उनको उचित लगे तो ज्यादा से ज्यादा forward करिये " )


 व्यापारी गण चाहते है की लिखा पडी कम से कम करना पडे। कम से कम कागजी कार्यवाही हो।कम से कम समय में सरकारी काम निपट जाये। व्यापारी , अपने व्यापार पर ज्यादा ध्यान देना चाहता है। आज तक नोवीं ,दसवीं पास स्टुडेंट ही व्यापार को प्राथमिकता देते थे।कालेज में जाने के बाद सिर्फ बीकांम के स्टुडेंट व्यापार को प्राथमिकता देने लगे। कुछ खानदानी लोग भी व्यापार पर ध्यान देते है। 

आज सरकार  GST जुलाई से लागू करने जा रही है । जिसमें एक माह में तीन तीन रिटर्न भरने.है । प्रत्येक माह में तीन रिटर्न भरने है। गलती की सम्भावना भी बड जायेगी। गलतियों को सुधारने का अवसर भी कम समय का मिलेगा। तीन रिटर्न भी एक साथ नहीं भरना है। 

अब व्यापारी , व्यापार करें या पूरे माह GST  के रिटर्न भरने की ही तैयारी करता रहे। 

अब व्यापारी के.सामने रिटर्न भरने में जो समस्या आने वाली है , वह इस प्रकार है। 

1:- सभी व्यापारी को अनिवार्य रुप से मुनिम / वकील रखना होगा।

2:- प्रतिदिन खरीदी और बिक्री बिल अपने एकाउंटटेंट को देना होगा। 

3:- एक माह के पूरा होते ही खुद.को उन आये गये बिलों की पडताल करना होगा।

4:- व्यापारी को कोई हक नहीं बनता की वह शादी विवाह में जाये ।

5:- घूमने फिरने और मनोरंजन की भी पांबदी हो जायेगी।

6:- परिवार में मृत्यु होने पर भी उसे तीन दिन दुख मनाने की आवश्यकता नहीं होगी ।

7:- एक एक व्यापारी को दो - दो एकाउंट टेंट रखना होगा। कभी किसी के बिमार पडने , गैर हाजिर रहने या किसी कारण से उपस्थित न होने पर भी उसके व्यापार की लिखा - पडी में रुकावट पैदा न हो। 

8:- जो व्यापारी सिर्फ एकल है , वे भी अब अपना व्यवसाय बन्द करके किसी अन्य व्यापारी के यहाँ नोकरी कर ले। अन्यथा उसे भी बीमार होने और पार्टी शार्टी करने का अधिकार नहीं होगा।

9:- अब व्यापारी को कमाई से ज्यादा ,अपने व्यापार में होने वाले खर्च पर ध्यान देना होगा।

10:- जीएसटी  में सजा होने पर व्यापारी को अपने व्यापार और परिवार को सम्भालने के लिए एक नई व्यवस्था करनी होगी ।

ऐसे अनेक समस्याओं से व्यापारी को जूझने के लिए एक जुलाई से तैयार हो जाना चाहिए। 

व्यापारी अब , व्यापार करने नहीं , बल्कि व्यापार के युद्व में लडने को उतरने को तैयार होकर व्यापार करें। सरकार जहां व्यापार को आराम दायक बनाने के नाम पर GST लेकर आ रही है । वही उसके साथ व्यापारियों के लिए अनेक मुसीबत को भी लेकर आ रही है।
GST को बहुत ही उलझाऊ रुप से सरकार लेकर आ रही है। इसमें सबसे ज्यादा मरण छोटे व्यापारियों का होने वाला है। बैंकों ने तो टेक्सो की आंड में अभी से अपने उपभोक्ताओं को लूटना शुरू कर दिया है।
GST क्या क्या गुल खिलायेगा , यह देखने वाली बात होगी। इससे लालफीता शाही में जबरदस्त वृद्धि होगी। फिर से देश में इस्पेक्टर राज हावी हो जायेगा। कागजी कार्यवाही बहुत बढ जायेगी। छोटे छोटे व्यवसाय बन्द होने लगेंगे। देश में बेरोजगारी बढने लगेगी।  नोकरी के अभाव में अपराध , अत्याचार , भ्रष्टाचार बढ जायेगा।

उक्त बाते तब सामने आ रही है , जब देश में Gst लागू भी नहीं हुआ है। जब Gst लागू हो जायेगा , तब नहीं मालूम कितने अत्याचार बढ जायेंगे।

Author (Mr. Deepak Ganatra) is the owner of a Ahmedabad based pharmaceutical company.


One thing I want to add:

Why petrol and diesel prices are not brought under GST.  Now for petrol and diesel the central  exise duty is 23% and state VAT is 34%. Total tax is 57%. If these essential products are brought under GST , the maximum tax will be only 28%, which means the prices of petrol and diesel can come down by almost 50%. The public at large will be benefited.

But sadly Modi government not including Petrol & Diesel in GST.


Please see other posts in this blog page by clicking "Home" or from "My Favorite Posts" / "Popular Posts" / "Archives" sections, and if any remarks please feel free to post.
Thanks & Vande Mataram!! Saroop Chattopadhyay.

Mamata Banerjee’s dream project for girl child “Kanyashree” of Bengal now becomes“Kanyashree” of the world. It grabs first place in the United Nation Public Service Award by UN. #বাংলার কন্যাশ্রী আজ বিশ্বের কন্যাশ্রী


On the occasion of UN Public Service Day on 23rd June 2017, the United Nation awarded the United Nations Public Services first place winner award in the Category on Reaching the Poorest and Most Vulnerable through Inclusive Services and Participation, to Government of West Bengal for "Kanyashree", out of 552 nominations from 62 countries.


The prestigious award is in recognition of excellence in public service for sustainable development, innovation and our commitment to leave no one behind in the development agenda of our government.

We are proud of our “Kanyashree”.

It is indeed a historic achievement and a proud moment for the people of West Bengal and India. 
 
Chief Minister Mamata Banerjee accepted the United Nations Public Service Award for the Asia-Pacific region for the first-place given to Kanyashree Prakalpa, in The Hague in the Netherlands.

Below is the speech she gave on the occasion:

“Thank you so much. I think public service is service for all; and public means people - government of the people, by the people, for the people. I come from West Bengal in India, home to 100 million people. But public service also means continuous monitoring and providing regular service for the people.

I have attended more than 300 administrative review meetings where we meet all the public representatives including block-level officials. Because of the accountability, transparency and sustainable developmental work, we achieve 100 per cent of our goals.

You will be happy to know that out of our state’s 100 million people, we give direct benefits to 90 per cent, and the people are so happy. We empower the girl child through the Kanyashree project. We help everyone - the minorities, other backward classes (OBCs), and everyone from a newborn baby to senior citizens. When a baby is born, we give each a plant. We give scholarships to 20 million people. We have given free bicycles, which is a green transportation, to about 7 million students. We give pensions and other benefits to the elderly. We give rural people guaranteed 100 days’ work, thus providing job opportunities for the poor. We give free foodgrains to the people. We give free healthcare, from kidney transplantation to heart transplantation. We provide healthcare, so people are very happy.

 
Thus, we provide help along the entire life-cycle of a person. We feel we must help the downtrodden people. We ensure that benefits reach the poor people, the people at the grassroots. The benefits have reached so many people because we ensure continuous monitoring, and because of the administrative review meetings and the administrative calendar.

There must be commitment, dedication and determination. If you have a dream, you have to achieve it. What is needed is for the leader to lead the people. We lead the people. Thank you so much.”
 – Mamata Banerjee, Hon. CM, Government of West Bengal.

 

#বাংলার কন্যাশ্রী আজ বিশ্বের কন্যাশ্রী
কন্যাশ্রী হল বিশ্ব সেরা।

 
পৃথিবীর 63টি দেশের 552 টি প্রকল্প কে হারিয়ে মমতাময়ীর কন্যাশ্রী জগত সভায় শ্রেষ্ঠ আসন ছিনিয়ে নিল,রাষ্ট্র সংঘে উপস্থিত সমস্ত পৃথিবী থেকে আসা প্রতিনিধিরা মুগ্ধ হয়ে শুনলো বাংলার বুকে চলা বিভিন্ন উন্নয়ন মূলক প্রকল্পের কথা

বাংলা আজ গর্বিত "বিশ্ববাংলা" ....

সৌজন্যে মমতা ব্যানার্জীর মস্তিষ্ক প্রসূত পশ্চিমবঙ্গ সরকারের মৌলিক প্রকল্প "কন্যাশ্রী"..... 

বিশ্বের ৬২ টি  দেশের সেরা ৫৫২ টি সামাজিক প্রকল্পের মধ্যে সেরার সেরা শিরোপা দখল করে বিশ্বের দরবারে বাংলা তথা ভারতের নাম স্বর্ণাক্ষরে লিখে দিলো মমতা ব্যানার্জীর "কন্যাশ্রী" প্রকল্প.... শুধু বাংলা নয় সারা দেশের কাছে আজ অত্যন্ত গর্বের দিন.... 

বাংলার ৪০ লক্ষ কন্যাশ্রী আজ ভারতবর্ষের প্রতিনিধি হয়ে বিশ্বমঞ্চে সম্মানিত,অনুপ্রানিত... 

একজন বাঙালী হিসেবে শুধু মন প্রান খুলে চিৎকার করে বলতে ইচ্ছে করছে.....

মমতা ব্যানার্জী জিন্দাবাদ..... 

অখন্ড বাংলা.... বিজয়ী বাংলা.....অটুট বাংলা... এগিয়ে বাংলা।

তবে আজকের দিনে শুধু  বাংলা নয় আসুন একজন ভারতবর্ষের মানুষ হিসাবে গর্বিত হই

Please see other posts in this blog page by clicking "Home" or from "My Favorite Posts" / "Popular Posts" / "Archives" sections, and if any remarks please feel free to post.
Thanks & Vande Mataram!! Saroop Chattopadhyay.